दादी-नानी और पिता-दादाजी के बातों का अनुसरण, संयम बरतते हुए समय के घेरे में रहकर जरा सा सावधानी बरतें तो कभी आपके घर में डॉ. नहीं आएगा. यहाँ पर दिए गए सभी नुस्खे और घरेलु उपचार कारगर और सिद्ध हैं... इसे अपनाकर अपने परिवार को निरोगी और सुखी बनायें.. रसोई घर के सब्जियों और फलों से उपचार एवं निखार पा सकते हैं. उसी की यहाँ जानकारी दी गई है. इस साइट में दिए गए कोई भी आलेख व्यावसायिक उद्देश्य से नहीं है. किसी भी दवा और नुस्खे को आजमाने से पहले एक बार नजदीकी डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लें.
पुरे वर्ष सन् 2017 के पर्व त्यौहार निचे मौजूद है...

लेबल

आप यहाँ आये हमें अच्छा लगा... आपका स्वागत है

नोट : यहाँ पर प्रस्तुत आलेखों में स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी को संकलित करके पाठकों के समक्ष प्रस्तुत करने का छोटा सा प्रयास किया गया है। पाठकों से अनुरोध है कि इनमें बताई गयी दवाओं/तरीकों का प्रयोग करने से पूर्व किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लेना उचित होगा।-राजेश मिश्रा

स्वास्थ लाभ के साथी, इस वेबसाइट से जुड़ें : राज

गुरुवार, अप्रैल 23, 2015

'प्रदर' से मुक्ति कैसे पाएँ


अधिकतर महिलाएँ इससे पीडित रहती हैं। रोगाधिक्य में स्थिति और भी दयनीय हो जाती है। रोग के कारण चेहरा सफेद पड जाता है और शरीर कमजोर हो जाता है। रोग के प्रारम्भ में पहले कमर में दर्द और पेडू में भारीपन एवं कभी कभी तनावयुक्त दर्द होता है। शरीर में भारीपन तथा पेशाब में रोग के लक्षण प्रकट होते हैं उक्त लक्षणो के बाद गर्भाशय से योनिद्वार में होकर एक स्राव निकलने लगता है। यह स्राव पहले पतला, स्वच्छ एवं गोद जैसा लसदार होता है। धीरे धीरे यह गाढा होकर मवाद की भाँति हो जाता है। रौगाधिक्य में हरा पीला, खून मिश्रित पनीर जैसा कभी गाढा तो कभी पतला अर्थात् अनेक प्रकार का स्राव होता है।

अत्यधिक मैथुन, मानसिक परेशानी, क्रोध, अत्यधिक गर्भपात, बार बार बच्चा जनना, अनियमित मासिक, कब्ज उत्तेजक पदार्थों का सेवन आदि अनेक कारण इसके लिए उत्तरदायी हैं। जननांगो की सफाई न रखना भी इस रोग का प्रमुख कारण है।

चिकित्सा सूत्र एवं आवश्यक बातें:- 

रोग के वास्तविक कारण को जानकर उसे दूर करें। अधिक आराम, मानसिक चिन्ता, शोक, क्रोध, ईर्ष्या , अत्यधित मैथुन, भय आदि से दूर रहें। अंतडियों की क्रिया को तेज रखा जाए ताकि कब्ज न हो पाये भोजन हल्का और सुपाच्य करना उचित है। मांस, मछली, तेज मसालेदार, बासी एवं गरिष्ठ भोजन, अत्यधिक खट्टी वस्तुए जैसे आचार आदि का सर्वथा त्याग करना चाहिए।


आयुर्वेदिक चिकित्सा:-

  • मुलेठी के चूर्ण में दो गुनी पिसी मिश्री मिला लें प्रातः 4 ग्राम दवा खाली पेट खिलावें तथा सवा सेर पानी में 10-15 बूंद चूने के पानी की डालकर थोडा थोडा पानी दिन भर पीते रहिए। 40 दिन तक करें।
  • पुष्यानुग चूर्ण 60 ग्राम
प्रदरान्तक लोह 10 ग्राम
चन्दनादि चूर्ण 60 ग्राम
चन्द्रमुखी चूर्ण 60 ग्राम
सबको मिलाकर प्रातः सायं 6-6 ग्राम दूध से लें।
इसके साथ अशोकारिष्ट 30 मिली बराबर पानी मिलार प्रातः सायं।
इसके उपरान्त शतावरी घृत या जीरक अवलेह 1 चम्मच लें। रोग जड से चला जायेगा फिर कभी दोबारा नहीं होगा।

Seasonal Foods