दादी-नानी और पिता-दादाजी के बातों का अनुसरण, संयम बरतते हुए समय के घेरे में रहकर जरा सा सावधानी बरतें तो कभी आपके घर में डॉ. नहीं आएगा. यहाँ पर दिए गए सभी नुस्खे और घरेलु उपचार कारगर और सिद्ध हैं... इसे अपनाकर अपने परिवार को निरोगी और सुखी बनायें.. रसोई घर के सब्जियों और फलों से उपचार एवं निखार पा सकते हैं. उसी की यहाँ जानकारी दी गई है. इस साइट में दिए गए कोई भी आलेख व्यावसायिक उद्देश्य से नहीं है. किसी भी दवा और नुस्खे को आजमाने से पहले एक बार नजदीकी डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लें.
पुरे वर्ष सन् 2018 के पर्व त्यौहार निचे मौजूद है...

लेबल

आप यहाँ आये हमें अच्छा लगा... आपका स्वागत है

नोट : यहाँ पर प्रस्तुत आलेखों में स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी को संकलित करके पाठकों के समक्ष प्रस्तुत करने का छोटा सा प्रयास किया गया है। पाठकों से अनुरोध है कि इनमें बताई गयी दवाओं/तरीकों का प्रयोग करने से पूर्व किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लेना उचित होगा।-राजेश मिश्रा

स्वास्थ लाभ के साथी, इस वेबसाइट से जुड़ें : राज

बुधवार, फ़रवरी 25, 2015

दमा (अस्थमा) : कारण और निवारण

Asthma: Causes and Prevention

अस्थमा में अधिकतर हवा में पाये गये धूल, मिट्टी, धुएं के कण, जो सांस लेते हुए फेफड़ों तक जाते हैं, वे श्वासनली में रूकावट पैदा करते हैं। सांस के अलावा कभी-कभी कुछ खाने की चीजों से भी अस्थमा होता है। ऐसे में अचानक सांस फूलने, तेज खांसी आने, सीने में अजीब दर्द और थकावट महसूस होने लगती है। जब कभी ऐसा लगे तो सावधानी बरतना जरूरी हो जाता है। ध्यान दे राजेश मिश्रा के कुछ बातों पर:-
  • अस्थमा अटैक होने से बचने के लिए गर्मियों व सर्दियों में पोलन से बचें और खिड़की, दरवाजे बंद रखें। गर्मियों में एयर कंडीशनर का प्रयोग करें।
  • अस्थमा अटैक के समय अधिक बातें न करें, राम से लेटें, शांत रहें ताकि सांस न फूले और सांस आसानी से ली जा सके।
  • अपने देसी नुस्खों को मत अपनाएं। डाक्टर द्वारा बतायी गयी दवा का ही प्रयोग करें।
  • घर में पर्दे आदि वही लगाएं जिन्हें आप जल्दी-जल्दी धो सकें ताकि उनमें धूल का कण अधिक देर ने टिक सकें।
  • घर में किसी को भी अस्थमा हो तो घर पर कारपेट न बिछाएं, क्योंकि कारपेट में धूल मिट्टी के कण जमा होते रहते हैं।
  • अस्थमा रोगियों को धूम्रपान करने वालों से दूर रहना चाहिए।
  • अस्थमा रोगी का बेडरूम साफ-सुथरा होनी चाहिए। आवश्यकता होने पर कमरे में ह्यूमिडिफायर (नमी दूर करने की मशीन) लगायें। चादर, तौलिया, तकिए का गिलाफ अलग रखें और उन्हें सप्ताह में एक बार धोयें। 10-15 दिन में तकिए और गद्दे कोक धूप लगायें और उसकी मिट्टी को साफ करें।
  • पालतू जानवरों से दूरी बना कर रखें।